Adhunik Asamanaya Manovigyan: Modern Abnormal Psychology

by Arun Kumar Singh


  • ISBN Hardcover: 9789390713189, 9390713188
  • ISBN Paperback: 9788194982647, 8194982642
  • Year of Publication: 2021
  • Edition: 8th Revised Reprint
  • No. of Pages: 692
  • Language: English
  • Publisher: Motilal Banarsidass Publishing House
  • Sale price ₹ 995.00 Regular price ₹ 995.00

    Tax included.

    आधुनिक असामान्य मनोविज्ञानएक ऐसी पुस्तक है। जिसकी आवश्यकता न केवल छात्रों को बल्कि शिक्षकों को भी है। इससे मानसिक रोगों तथा उनसे सम्बंधित नवीनतर सिद्धांतो का उल्लेख सरल एवं सुगम भाषा में किया गया है। इतना ही नहीं, प्रत्येक मानसिक रोग की व्याख्या एक नैदानिक केस (Clinical case) के माध्यम से की गयी है ताकि छात्रों को सम्बंधित मानसिक रोग के लक्षणों एवं कारणों को समझने में विशेष मदद मिले।

     प्रस्तुत पुस्तक में 27 अध्याय हैं जिनमें कई महत्त्वपूर्ण विषयों जैसे नैदानिक वर्गीकरण एवं मूल्यांकन (Clinical classification case), असामान्य व्यवहार के वर्तमान सिद्धांतो एवं माडॅल, असामान्य व्यवहार के कारण, स्वप्न, चिंता विकृति (Anxiety disorder), मनोेविच्छेदी विकृति, मनोदैहिक विकृति, व्यक्तित्व विकृति, द्रव्य-संबंध् विकृति, मनोदशा विकृति (Mood disorder) मनोविदालिता (Schizophrenia), व्यामोही विकृति (Delusional disorder), मानसिक मंदन (Mental retardation),  मनश्चिकित्सा (Psychotherapy), जैसे महत्त्वपूर्ण विषयों को सम्मिलित किया गया है। मानसिक रोगों का नैदानिक वर्गीकरण करने में DSM-IV तथा ICD-10 वेफ नियमनों का पालन करते हुए उसे बोध्गम्य भाषा में प्रस्तुत किया गया है। छात्रों की सुविधा को ध्यान में रखते हुए असामान्य मनोविज्ञान की प्रमुख घटनाओं तथा कुछ महत्त्वपूर्ण वस्तुनिष्ठ प्रश्नों (objective questions) को भी इस पुस्तक में सम्मिलित किया गया है।

    अध्याय 1. विषय प्रवेश ; (Introduction), 2. नैदानिक वर्गीकरण तथा मूल्यांकन (Diagnostic Classification and Assessent) 3. असामान्य व्यवहार वेफ वर्तमान सिद्धांत या मॉडल (Current Theories or Models of Abnormal behaviour), 4. असामान्य व्यवहार वेफ सामान्य कारण (General Causes of Abnormal Behaviour), 5. असामान्यता की मनोविश्लेषणात्मक व्याख्या ; (Psychoanalytic Explanation of Abnormality) 6. स्वप्न का स्वरूप ; (Nature of Dream), 7. तनाव तथा समायोजन विकृतियाँ (Stress and Adjustment Disorder), 8. चिंता विकृतियाँ (Anxiety Disorders) 9. कायाप्रारूप विकृतियाँ ; (Somatoform Disorders), 10. मनोविच्छेदी विकृतियाँ ; (Dissociative Disorders) 11. मनोदैहिक विकृतियाँ ; (Psychosomatic or Psychophyiological Disorders) 12. व्यक्तित्व विकृतियाँ (Personality Disorders) 13. द्रव्य-संबंध् विकृतियाँ (Substance-Related Disorders), 14. मनोदशा विकृतियाँ एवं आत्महत्या (Mood Disorders and Sucide), 15. मनोविदालिता (Schizophrenia), 16. व्यामोही विकृतियाँ या स्थिर-व्यामोही विकृतियाँ (Delusuional Disorders of Paranold Disorders), 17. मानसिक दुर्बलता तथा अध्गिम असमर्थता (Mental Retardation and Learning Disabilities), 18. लैंगिक एवं लिंग पहचान विकृतियाँ (Sexual and Gender Identity Disorders), 19. संज्ञानात्मक विकृतियाँ (Cognitive Disorders), 20. नैदानिक हस्तक्षेप: मनश्चिकित्सा (Clinical Intervention : Psychotherapy), 21. मनोगत्यात्मक चिकित्सा (Psychodynamic Therapy), 22. व्यवहार चिकित्सा एवं संज्ञानात्मक-व्यवहार चिकित्सा (Behaviour Therapy and Cognitive Behaviour), 23. मानवतावादी-अनुभवात्मक चिकित्सा (Humanistic-Experiential Therapy), 24. सामूहिक चिकित्सा, पारिवारिक चिकित्सा तथा भिडं़त समूह चिकित्सा (Group Therapy, Family Therapy, Martial Therapy and Encounter Group Therapy), 25. मनोश्चिकित्सा का मूल्याकंन (Evaluation of Psychotherapy), 26. जैविक चिकित्सा (Biological Therapy), 27. मानसिक स्वास्थ्य (Mental Health).